Naraz Shohar Ko Manane Ki Dua

Naraz Shohar Ko Manane Ki Dua
Rate this post

Naraz Shohar Ko Manane Ki Dua

Naraz Shohar Ko Manane Ki Dua,”दोस्तो जहां मोहब्बत होती है, वहां नफ़रत भी है। और जहां नफ़रत है, वहां नाराज़गी का होना लाज़मी है। एक बहन के लिए भाई को मनाना कोई बड़ी बात नहीं है। एक माँ को बेटे को मनाना ये भी कोई बड़ी बात नहीं है। लेकिन जब बात अपने शौहर को मनाने की बात आती है, तो ये मुश्किल हो जाता है। वो इंटरनेट से अपने naraz shohar ko manane ki dua की तलाश करती है।

औरते अगर नज़र होती है, तो उसके पति को अपनी बीवी को मनाने की कला भरपुर आती है। औरत किसी बात को लेकर अपने शौहर से नज़र हो जाती है, तो पति उसको बाहर घूमने के लिए ले जाता है। उनको फिल्म देखने लेकर जाता है। उसके मनपसंद के सूट, ज्वैलरी दिला कर अपनी बीवी की नाराज़गी कुछ घंटो में ख़तम कर लेता है। वही अगर एक औरत का शौहर उसे नाराज़ हो जाए, तो 1 महीने तक हो जाता है। लेकिन वो अपने शौहर को मनाने में कामयाब नहीं हो पाती है।

शौहर का गुस्सा होना मानो सर पर पहाड़ आ जाना। शौहर की नाराजगी एक तरह और औरत के दुख दर्द एक तरफ बराबर माना जा सकता है। शादी के कुछ साल तक शौहर अपनी बीवी को राजकुमारी की तरह रखता है। उसकी हर छोटी-छोटी फरमाइश को पूरी करने की कोशिश करता है। और 5 साल बाद ही दोनों मिया बीवी में कुत्ते बिल्ली की तरह लड़ाईया होनी शुरू हो जाती है। ज्यादातर मामलो में औरत से ज्यादा मर्द नज़र होते है।

लेकिन कुछ शौहर गुस्सैल और जिद्दी प्रकार के होते हैं। वो घर में अपनी बीवी से ही नाराज़ नहीं होता बल्कि अपने बच्चों से अपनी माँ बाप से भी नज़र होकर बैठ जाता है। वो घर में राखी चीज़ को ज़ोर ज़ोर से इधर उधर फेंक कर बीवी के सामने अपनी ननाराज़गी ज़ाहिर करता है। कुछ औरतें इतनी बोली होती हैं, कि उनको अपने शौहर को मनाना ही नहीं आता है।

ऐसी हमारी बहनें यूट्यूब और गूगल पर नजर शौहर को मनाने के टोटके देखकर उनको करने लग जाती है। लेकिन होता सब कुछ उसका उल्टा ही। टोटके और उपाय करने से पहले और भी ज्यादा अपनी बीवी से नाराज़ हो जाते हैं। शौहर अपनी बीवी से दूरी बना लेता है। कभी-कभी तो गुस्सा इतना गुस्सा हो जाता है, कि अपनी बीवी को तलाक देने की बात तक कह देता है। लेकिन अब आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।

Shohar Ki Narazgi Khatam Karne Ka Amal

बहनो ऐसा कोई घर नहीं है, जिस घर में मिया बीवी के बीच कहासुनी ना हो। हर घर में मिया बीवी के दरमिया गिले शिकवे चलते रहते हैं। कभी बीवी आपके शोहर से नज़र हो जाती है, तो कभी शौहर छोटे बच्चों के जैसे अपनी बीवी से नज़र होकर बैठ जाता है।

Naraz Shohar Ko Manane Ki Dua

एक औरत शौहर को मनाने के लिए सब कुछ कर सकती है। लेकिन औरत का दिल तब टूट जाता है, जब सब कुछ करने के बाद भी शौहर का गुस्सा शांत नहीं होता है। लेकिन आज मैं आपको shohar ki narazgi khatam karne ka amal बताने जा रहा हूँ। ये एक इस्लामिक अमल है। और करने में बहुत आसान भी है।

  • जिस बहन का शौहर नज़र है, वो शाम को सूरज डालने से पहले बाज़ार से एक गुलाब का फूल ले आये।
  • उस गुलाब के फूल को एक कांच के गिलास में डालकर, उस गिलास में पानी भर लेना है।
  • जैसी ही रात को आपके शौहर सो जाए, तब आपको उनके बिस्तर के नीचे वो गिलास रख देना है।
  • गिलास को रख देने के बाद आपको इस मंत्र को सिर्फ 3 बार बोलना है।
  • बस आपको इतना ध्यान रखना है, कि आप अपने शौहर के साथ नहीं सोना है। यानि आपको एक ही बिस्तर पर नहीं सोना है। आपको अलग बिस्तर लगा कर सोना है।

आप तीन दिन बाद देखेंगे, जो शौहर आपकी बात नहीं सुनता था। वो आपकी बातों को गंभीरता से लेने लग जाएगा। आपसे पहले से ज्यादा मोहब्बत करने लग जाएगा।

Naraz Shohar Ko Manane Ka Behtreen Wazifa

कुछ बहनों के सवाल होते हैं, कि पहले हम्हारे शौहर हमें बहुत मोहब्बत करते हैं। दोनों के बीच अच्छे ताल्लुकात भी थे। लेकिन कुछ दिनो या महिनो से हम दोनों के बीच बात नहीं है। जिसकी वजह से शौहर बीवी आपस में एक दूसरे से नजर रहते है। एक दूसरे को मानाने में सबसे पहले पहल औरत ही करती है। ताकी रिश्ते में किसी तरह की कोई दरार पैदा न हो पाए। लेकिन घर के ही कुछ ऐसे सदस्य होते हैं, जो शौहर के कान भरते रहते हैं।

Naraz Shohar Ko Manane Ki Dua

हर मिया बीवी के बीच कोई झगड़ा या विवाद होता है, तो उसका सबसे बड़ा कारण ये होता है, कि आप दोनों की मोहब्बत के बीच कोई तीसरा शक आ गया है। जिसकी वजह से आप दोनों के रिश्ते में में मोहब्बत की मिठास ख़तम हो गई है। ये मिठास सिर्फ इस वज़ीफ़ा के मरहम से ही जा सकती है।

  1. जिस औरत का शौहर गुस्सा वाला है, वो औरत काली मिर्च के 11 दाने लेने है।
  2. अब आपको किसी भी दिन सुबह के ठीक 12 बजे 11-11 मरतबा दुरूद ए इब्राहिम पढ़ना है।
  3. और उसके बाद 11 बार या लतीफ़ु या वदूदो पढ़ना है।
  4. ये अमल जब आप कर रहे होंगे, तब आपको अपने शौहर की फोटो अपने सामने रखनी होगी।
  5. आख़िर में आपको उन सभी काली मिर्च के 11 दानो को आग में डाल देना है।

इंशा अल्लाह इस वज़ीफ़ा को 11 दिन करने के बाद आपके शौहर आपसे कभी नज़र नहीं होंगे, और हमेशा आपसे रज़ी और दिलखुश रहेंगे। बस आप सभी बहनों से गुज़ारिश करते हैं, कि जो हमें अमल और वज़ीफ़ा बताते हैं, वो सिर्फ अपने शौहर के लिए ही करें। गैर मर्दों को राजी करने के लिए बिल्कुल भी ना करे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *