Har Bandish Ka Tod Quran Se

Har Bandish Ka Tod Quran Se
4/5 - (1 vote)

Har Bandish Ka Tod Quran Se

Har Bandish Ka Tod Quran Se, “बंदिश कैसे कहते है, चलिए जानते है दोस्तों जिस तरह से किसी पानी की पाइप में कोई गेंद या कचरा फस जाता है। तब पानी का प्रभाव पूरी तरह से रुक जाता है। वैसे ही अगर आपका कोई काम रुक जाता है। और आपने लाख कोशिशें कर लीं। लेकिन वो काम आगे नहीं बढ़ पा रहा है।

आपने उस काम को पूरा करने के लिए दिल और जान लगा देते है। लेकिन वो काम अपनी जगह से हिला तक नहीं पाता है। ऐसे में कहा जाता है, की काम पर किसी व्यक्ति ने बंदिश लगा दी है। आप घर बैठे ही अपनी Har Bandish Ka Tod Quran Se तोड़ सकते हैं।

Shadi Ki Bandish Ka Tod

दोस्तो कहते हैं, दुनिया कि सबसे ख़तरनाक जिस बंदिश को माना गया है, वो शादी की बंदिश है। अगर किसी पर शादी की बंदिश लग जाती है, तो उसकी शादी नहीं हो पाती है।और उसकी उमर बढ़ती जाती है।  दोस्तों जिसका जोड़ है उसका तोड़ भी है। ये तो सिर्फ शादी की बंदिश ही है आज हम आपके लिए Shadi Ki Bandish Ka Tod कुरान पाक से लेकर आये है

Har Bandish Ka Tod Quran Se

कुछ लोग इतने ज़ालिम किस्म के होते हैं। वो किसी को बर्बाद करने के लिए, किसी भी हद को पार करने के लिए तैयार बैठे रहते है। ऐसे लोग काला इल्म करके आप पर शादी की बंदिश लगा देते हैं। शादी की बंदिश घर में रिश्ते आने पूरी तरह बंद हो जाते है।

अगर आप पर किसी ने शादी की बंदिश लगा दी है, और आपको पता नहीं कि ये काम किसने किया है, तो आप एक दुआ पढ़ कर इस बंदिश को हटा सकते हैं। उस ज़ालिम व्यक्ति का पता भी लगा सकते है

  • इस अमल को सिर्फ जुमे के दिन ही करना है

Aulad Ki Bandish Ka Tod

शादी के बाद हर किसी की इच्छा होती है, उनके भी घर में बच्चे की किलकारी गूंजती है। लेकिन शादी के कुछ साल बाद भी बच्चा नहीं होता, तो वो डॉक्टर को चेक करवाते हैं। लेकिन सब रिपोर्ट नॉर्मल ही आती है।

एक इंसान को सबसे ज्यादा तकलीफ तब होती है, जब उस पर किसी ने औलात की बंदिश लगा दी हो। शादी के कुछ तक तो पता ही नहीं चलता है, कि बंदिश हुई है या नहीं। लेकिन जब 10 से 12 साल बीत जाते हैं। तब जाकर पति पत्नी को पता चलता है, की उन पर किसी ने औलाद की बंदिश करवा रखी है।

Har Bandish Ka Tod Quran Se

कुछ समझ में नहीं आता कि बच्चा क्यों नहीं हो रहा है। लेकिन जब आप किसी मौलाना या तांत्रिक के पास जाते हैं, तब जाकर आपको हकीकत पता चलती है। आज मैं एक ऐसा शक्तिशाली अमल लेकर आया हु। जो आपकी Aulat Ki Bandish Ka Tod आसानी से कर देगा।

  • आपको 3 निम्बू और 1 चाकू लेना है।
  • जब घर में कोई ना हो, तब आपको ज़मीन पर बैठना है। अपने सामने 3 नींबू और 1 चाकू रखना है।
  • उसके बाद आपको 7 खुशबूदार अगरबती जलानी है।
  • सबसे पहले आपको एक निम्बू उठना है। और उसको अपने सर के ऊपर से गाड़ी की दिशा में 3 बार घूमना है।
  • उसके बाद उस निम्बू को चाकू से काट देना है, और इस मंत्र को एक बार बोलना है- या कविय्यु अल-मु मिन
  • अब आपका दूसरा और उसके बाद तीसरा नींबू उठाना है और ठीक वैसा ही करना है, जो पहले नींबू के साथ किया है।

इस अमल को करने के बाद आपका हमल ठहर जाएगा। और 9 महीने बाद आपके घर में खुशियां मनाई जाएंगी। जिसका आपको बरसों से इंतजार था। इस अमल से जो भी आपके ऊपर किया कराया, जादू, हर तरह की रुकावट भी सब खत्म हो जाएगी।

अगर कोई दोबारा बंदिश लगाएगा, तो ये बंदिश पलट कर उसी पर लग जाएगी। और वो इस बंदिश को जिंदगी भर तक कभी नहीं खोल पाएगा। जो आपका बुरा चाहेगा उसका बुरा हो जाएगा।

Karobar Aur Rizq Ki Bandish Ka Tod

आप जब बाजार जाते हैं, तो सैकड़ों तरह की दुकानें देखते हैं। किसी दुकान पर ग्राहक की इतनी भीड़ होती है, कि उस दुकान में पैर तक रखने की जगह नहीं होती है। और दूसरी तरफ़ कुछ दुकान ऐसी होती है, जो सुनसान और वीरान पड़ी हुई नज़र आती है।

ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि एक दुकानदार दूसरे दुकानदार से दिल में जलन रखता है। आज के समय में कोई आगे बढ़ता देखना नहीं चाहता है। इसलिए एक दूसरे पर Karobar Aur Rizq Ki Bandish लगा देते हैं।

Har Bandish Ka Tod Quran Se

कारोबार की बंदिश लगाने के साथ ही इंसान के बुरे दिन की शुरुआत भी हो जाती है। खुद को बर्बाद होता देख व्यक्ति ज्यादा से ज्यादा मेहनत करता है। लेकिन उसकी मेहनत रंग नहीं लाती है। कारोबार बिलकुल ख़त्म हो जाता है। दुकान पर ताला लगने की नौबत आ जाती है।

घर में परेशानी लगतर बढ़ती जाती है। एक परेशानी ख़त्म नहीं होती, तो दूसरी परेशानी सामने खड़ी नज़र आती है। पैसा रुक नहीं पता है, और जितनी भी जमा पूंजी होती है, सब छूमंतर हो जाती है।

लेकिन दोस्तों आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि आज मैं आपके लिए Karobar Aur Rizq Ki Bandish Ka Tod लेकर आया हूं। बस इसे मेरे बताए हुए तारिके से ही करें।

  • इस अमल को 7 दिन लगातार करना है।
  • सुबह जब आप दुकान पर जाये, तो दुकान का ताला खोलने से पहले इस अमल को करना है।
  • दुकान के मुख्य दरवाज़े के सामने खड़े होकर 1 मर्तबा powerful सूरह अल नास पढ़े।
  • उसके बाद दरवाजे पर ज़ोर से एक बार फूंक मार दे।
  • इतना करने के बाद दरवाजे से 4 कदम पीछे हटे। और अपनी चप्पल या जूते जो अपने पहने हो। उसको उतार कर झाड़ने है। और अपनी दुकान या घर में दाखिल हो जाना है।

इंशा अल्लाह की रहमत से आपके कारोबार और रिज़्क़ दोनों का एक साथ तोड़ हो जायेगा। एक बार इस अमल के असर से बंदिश टूट गई, तो समझ लो इसके बाद जिंदगी भर आपके ऊपर कोई बंदिश नहीं लग सकती है। जैसे एक पिंजरे से पंछी आज़ाद होता है, वैसे ही आप बंदिश से आज़ाद हो जाएंगे।

आप ऊपर कितनी भी बड़ी बंदिश क्यों न लगी हो। बंदिश लगे बहुत साल बीत गए। आप जगह जगह इलाज करवा करवा थक गए हैं। लेकिन बंदिश टूटने का नाम नहीं ले रही है। तो आज मेरे बताये हुए अमल करने के बाद आपकी जिंदगी में फिर से खुशियां शामिल हो जाएंगी। और आप हर तरह की बंदिश से हमेशा के लिए आज़ाद हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *